दिनांक : 01/07/2019
भारतीय रिज़र्व बैंक में कनिष्ठ अभियंता (सिविल/ इलैक्ट्रिकल) के पद के लिए भर्ती

भारतीय रिज़र्व बैंक पात्र भारतीय नागरिकों से कनिष्ठ अभियंता (सिविल) और कनिष्ठ अभियंता (इलैक्ट्रिकल) के लिए आवेदन आमंत्रित करता है।

ऑनलाइन आवेदनपत्र भरने के लिए उम्‍मीदवार नीचे बताए गए लिंक पर क्लिक करें।

आवेदन करने से पहले उम्‍मीदवार यह देख लें कि वे पद के लिए निर्धारित पात्रता मानदंडों को पूरा करते हैं। उम्‍मीदवारों से अनुरोध है कि बैंक की वेबसाइट www.rbi.org.in पर ऑनलाइन आवेदन करें।

हेल्‍पलाइन : फॉर्म भरने में, फीस के भुगतान या कॉल लैटर प्राप्‍त करने में समस्‍या होने पर cgrs@ibps.in पर सम्‍पर्क करें।

याद रहे ई-मेल भेजते समय ई-मेल के विषय के बॉक्स में ‘Recruitment of Junior Engineers’-2018 जरूर लिखें।

महत्‍वपूर्ण तारीखें :-

वेबसाइट लिंक खुला रहेगा 07.01.2019 से 30.01.2019 तक
परीक्षा फीस का ऑनलाइन भुगतान 07.01.2019 से 30.01.2019 तक
ऑनलाइन परीक्षा की तारीख फरवरी 2019

1. आरक्षण के प्रावधान:

कनिष्ठ अभियंता (सिविल)

क्रम सं. भर्ती अंचल अजा/अजजा/अपिव के लिए आरक्षण
अजा अजजा अपिव सामान्य कुल
1 पूर्व 0 0 1 1 2
2 पश्चिम 0 1 2 4 7
3 उत्तर 0 0 1 2 3
4 दक्षिण 0 0 0 1 1
5 मध्य 0 0 1 1 2
कुल 0 1 5 9 15

कनिष्ठ अभियंता (इलेक्ट्रिकल)

क्रम सं. भर्ती अंचल अजा/अजजा/अपिव के लिए आरक्षण
अजा अजजा अपिव सामान्य कुल
1 पूर्व 0 0 0 1 1
2 पश्चिम 0 1 1 2 4
3 उत्तर 0 0 1 1 2
4 दक्षिण 0 0 0 1 1
5 मध्य 0 0 0 1 1
कुल 0 1 2 6 9

संक्षेपाक्षर इस प्रकार हैं : अजा – अनुसूचित जाति, अजजा – अनुसूचित जनजाति, अपिव – अन्‍य पिछड़ा वर्ग, सामा – सामान्‍य, अर्थात अनारक्षित, पीडब्‍ल्‍यूडी – दिव्यांगजन, ओएच - लोकोमोटर दिव्यांग उम्मीदवार: ओए - एक बांह प्रभावित (दायॉ या बायॉ); बीएल- दोनों पैर दिव्यांग परन्तु बांह नहीं; ओएल- एक पैर प्रभावित (दायॉ या बायॉ); एचआइ- श्रवण बाधित : पीडी-आंशिक रूप से बधिर; डी - बधिर, वीएच - दृष्टि बाधित, बी-नेत्रहीन; एलवी - कम दृष्टि, आरपीडब्ल्यूडी अधिनियम, 2016 के तहत परिभाषित चौथी श्रेणी ।

पद के लिए आवेदन करने वाले अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / पीडब्ल्यूडी उम्मीदवारों के लिए 50 / - के सूचना शुल्क के अतिरिक्त कोई शुल्क देय नहीं है।

अजा/अजजा/अपिव उम्मीदवारों के लिए जिन अंचलों में कोई रिक्ति आरक्षित नहीं है वहां वे आयु में छूट के लिए पात्र नहीं होंगे।

परिणामों को अंतिम रूप देते समय सरकार के वर्तमान निर्देशों के अनुसार विभिन्न श्रेणियों के लिए निर्धारित आरक्षण प्रदान किया जाएगा।

अंचल स्थानीय क्षेत्राधिकार
पूर्व अंचल पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, ओडिशा, असम, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, त्रिपुरा, सिक्किम, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह
पश्चिम अंचल महाराष्ट्र (विदर्भ क्षेत्र को छोड़कर), गोवा, संघ क्षेत्र दादरा एवं नगर हवेली, गुजरात, संघ क्षेत्र दमन और दीव
उत्तर अंचल दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, राजस्थान, जम्मू और कश्मीर, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, संघ क्षेत्र चंडीगढ़
दक्षिण अंचल कर्नाटक, तमिलनाडु, पुदुचेरी, केरल, लक्षद्वीप द्वीप समूह
मध्य अंचल आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र राज्य का विदर्भ क्षेत्र, मध्य प्रदेश, छत्‍तीसगढ़

2. परिभाषा:

i) भूतपूर्व सैनिक:

केवल उन्हीं उम्मीदवारों को भूतपूर्व सैनिक माना जाएगा जो भारत सरकार, गृह मंत्रालय, कार्मिक और प्रशासनिक सुधार विभाग द्वारा 27 अक्तूबर 1986 को जारी अधिसूचना संख्या 36034/5/85/ Estt (SCT), समय-समय पर यथासंशोधित, में निर्धारित संशोधित परिभाषा की शर्तों को पूरा करते हैं।

ii) दिव्यांग भूतपूर्व सैनिक:

ऐसे सैनिक जो संघ के सशस्त्र बलों में सेवा के दौरान शत्रु के विरुद्ध अथवा उपद्रवग्रस्त क्षेत्रों में सैन्य कार्रवाई के दौरान दिव्यांग हुए हों – उन्हें दिव्यांग भूतपूर्व सैनिक माना जाएगा।

iii. सैन्य कार्रवाई में मृत सैनिकों के आश्रित :

निम्नलिखित सैन्य कार्रवाई में मारे गए सैनिकों के लिए माना जाएगा कि वे सैन्य सेवा के दौरान कार्रवाई में मारे गए (क) युद्ध, (ख) युद्ध जैसी सैन्य कार्रवाई या पाकिस्तान या किसी अन्य देश के साथ युद्ध विराम रेखा पर झड़प (ग) नागालैंड, मिजोरम आदि में विद्रोही हालात से निपटने में सशस्त्र विरोधियों से लड़ते हुए (घ) विदेशों में शांति सेना मिशन में सेवा के दौरान (ड.) बारूदी सुरंगें बिछाने और शत्रुओं की बारूदी सुरंगों को हटाने सहित सैन्य कार्रवाई पूरी होने के एक माह पहले और तीन माह बाद की अवधि के बीच बारूदी सुरंगों को हटाने के साथ-साथ ऑपरेशन के दौरान (च) वास्तविक सैन्य कार्रवाई या सरकार द्वारा निर्दिष्ट अवधि में कार्रवाई के दौरान शीत-दंश (छ) अर्ध-सैन्य बलों के भड़के हुए कार्मिकों से निपटने और (ज) श्रीलंका में भारतीय शांति सेना के मारे गए आइपीकेएफ कार्मिक।

नोट:

1) ऐसे उम्‍मीदवार जो सैन्‍य बलों से सेवानिवृत्‍त/कार्यमुक्‍त हुए हैं या जिनकी एसपीई 01.01.2020 को या उससे पहले पूरी होनी संभावित है, केवल वे ही इस भर्ती के लिए आवेदन भेजने के पात्र हैं। उनसे यह भी अपेक्षित होगा कि रिज़र्व बैंक में कार्य ग्रहण करते समय कार्यमुक्ति का पत्र और स्‍व-घोषणा पत्र प्रस्‍तुत करें कि वह भारत सरकार के नियमों के अनुसार भूतपूर्व सैनिक को मिलने वाले लाभों के पात्र है। ऐसे उम्‍मीदवार जो अपने नियोजन की आरंभिक अवधि पहले ही पूरी कर चुके हों और विस्‍तारित नियोजन के तहत सेवा में हों, तो उन्‍हें उस आशय का प्रमाणपत्र प्रस्‍तुत करना होगा। ऊपर बताए गए उम्‍मीदवारों का यदि चयन हो जाता है तो उन्‍हें 01.02.2020 को या उससे पहले कार्यमुक्‍त होकर रिज़र्व बैंक में कार्यभार ग्रहण करना होगा। ऐसे सभी उम्‍मीदवारों द्वारा प्रस्‍तुत किए जाने वाले प्रमाणपत्रों के प्रारूप अनुलग्‍नक-III में दिए गए हैं और ये प्रमाणपत्र साक्षात्‍कार के समय अनिवार्य रूप से प्रस्‍तुत करने होंगे।

2) तारीख 15-11-1986 से टेरिटोरियल आर्मी कार्मिकों को भूतपूर्व सैनिक माना गया है।

3) यदि कोई भूतपूर्व सैनिक पुन: रोजगार प्राप्‍त करने के लिए मिलने वाले लाभों को प्राप्‍त करने के बाद सिविल साइड में सरकारी नौकरी प्राप्‍त कर चुका है, तो सरकारी सेवा में पुन: रोजगार के प्रयोजन से उसका भूतपूर्व सैनिक दर्जा समाप्‍त हो जाएगा।

4) सैन्‍य कार्रवाई में मृत-सैनिकों के आश्रित आरक्षण के पात्र हैं। दिव्यांग भूतपूर्व सैनिकों और सैन्‍य कार्रवाई में मृत-सैनिकों के आश्रितों, दोनों के लिए कुल रिक्तियों में 4.5 प्रतिशत रिक्तियां आरक्षित हैं। नियुक्ति के मामले में पहली वरीयता दिव्यांग भूतपूर्व सैनिकों को दी जाएगी और दूसरी वरियता सैन्‍य कार्रवाई में मारे गए रक्षा-कर्मी या अत्‍यधिक दिव्यांग हो चुके (रक्षा सेवाओं में कार्य के दौरान 50 प्रतिशत से ज्‍यादा दिव्यांगता होने पर) सैनिकों के दो आश्रितों को दी जाएगी। इस रियायत के प्रयोजन से सैनिक की विधवा, पुत्र, पुत्री या सैनिक के परिवार की मदद को सहमत उसके किसी निकट संबंधी को परिवार का सदस्‍य माना जाएगा। भूतपूर्व सैनिक/दिव्यांग हुए भूतपूर्व सैनिक को उच्‍चतम आयु-सीमा और शैक्षणिक अर्हताओं में मिलने वाली रियायत सैन्‍य कार्रवाई में मृत सैनिकों के आश्रितों को नहीं मिलेगी।

3. आरपीडब्ल्यूडी अधिनियम, 2016 के संदर्भ में बेंचमार्क दिव्यांगता (पीडब्ल्यूबीडी) वाले व्यक्तियों के लिए आरक्षण:

(i) निम्न श्रेणियों की अक्षमता वाले उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं:

क्रम सं पद का नाम कार्य के लिए पहचानी गयी श्रेणियां कार्यपरक वर्गीकरण शारीरिक अपेक्षाएं
1 कनिष्ठ अभियंता (सिविल) और कनिष्ठ अभियंता (इलैक्ट्रिकल) सुनने में कठिनाई सुनने में कठिनाई बैठना, चलना, देखना, पढ़ना और लिखना, संप्रेषण, झुकना, खड़े होना, उठाना, घुटने टेकना और झुकना, उँगलियों का हस्त कौशल, धक्का देना और खींचना
ठीक हुआ कुष्ठ रोग, बौनापन, एसिड अटैक पीड़ितों सहित लोकोमोटर दिव्यांगता ठीक हुआ कुष्ठ रोग, बौनापन, एसिड अटैक पीड़ित, एक हाथ (फील्ड कार्य के लिए) और

दोनों पैर (कार्यालय कार्य के लिए)
बैठना, चलना, देखना, पढ़ना और लिखना, संप्रेषण, झुकना, खड़े होना, सुनना/बोलना, उठाना, घुटने टेकना और झुकना, उँगलियों का हस्त कौशल, धक्का देना और खींचना

बैठना, चलना, देखना, पढ़ना और लिखना, संप्रेषण, झुकना, सुनना/बोलना, उँगलियों का हस्त कौशल, धक्का देना और खींचना
मांसपेशियों की कमजोरी (कार्यालय कार्य के लिए) बैठना, देखना, पढ़ना और लिखना, संप्रेषण, झुकना, सुनना/बोलना, उठाना, घुटने टेकना और झुकना, उँगलियों का हस्त कौशल, धक्का देना और खींचना
विभिन्न दिव्यांगताएं एक हाथ, ठीक हुआ कुष्ठ रोग, एसिड अटैक पीड़ित, बौनापन, (फील्ड कार्य के लिए), मांसपेशियों की कमजोरी (कार्यालय कार्य के लिए) और दोनों पैर (कार्यालय कार्य के लिए)

(i) सुनने में कठिनाई
बैठना, चलना, संप्रेषण, झुकना, खड़े होना, उठाना, घुटने टेकना और झुकना, उँगलियों का हस्त कौशल, धक्का देना और खींचना

और

सुनना/बोलना या पढ़ना और लिखना और देखना – जो उप्युक्त

(ii) अस्थिगत-दिव्यांगता वाले व्यक्ति वे हैं जिन्हें अस्थि-दोष या रचना के कारण अस्थियों, पेशियों और शरीर के जोड़ों के सामान्य संचालन में बाधा आती है। इन मामलों में अक्षमता की डिग्री न्यूनतम 40 प्रतिशत होनी चाहिए।

(iii) श्रवण बाधित व्यक्ति वे हैं जिनमें सुनने की क्षमता इतनी नहीं है जो सहज जीवन के प्रयोजन के लिए जरूरी है। यहां तक कि ये लोग बहुत ऊँची ध्वनियां भी सुनने, समझने में बिलकुल सक्षम नहीं होते हैं। इस वर्ग में वे लोग आएंगे जिनके बेहतर कान में 60 डेसिबल से अधिक की श्रवण क्षमता नष्ट हो चुकी है (गंभीर अक्षमता) या दोनो कानों से सुनाई नहीं देता है।

अक्षमता का अंश 40% से कम नहीं होना चाहिए

(iv) यह पद दृष्टि बाधित उम्मीदवारों के लिए अभिनिर्धारित नहीं है।

(v) निशक्त जन उम्मीदवारों के पास इस आशय का नवीनतम प्रमाणपत्र होना चाहिए जो भारत सरकार/ राज्‍य सरकार के विभाग/अस्‍पताल द्वारा जारी किया गया हो।

4. पात्रता मानदंड:

(क) आयु (01-01-2019 को):

आयु 20 और 30 वर्ष के बीच हो। केवल वही उम्मीदवार आवेदन करने के पात्र होंगे जिनका जन्‍म 02/01/1989 से पहले और 01/01/1999 के बाद (दोनों दिन शामिल हैं) नहीं हुआ हो।

उच्चतर आयु सीमा में रियायत : उच्चतर आयु सीमा में निम्नानुसार रियायत दी जाएगी:

क्रमांक वर्ग उच्‍चतर आयु सीमा में छूट
(i) अनुसूचित जाति /अनुसूचित जनजाति (अजा / अजजा) 5 वर्ष अर्थात 35 वर्ष की आयु तक
(ii) अन्‍य पिछड़ा वर्ग (अपिव) 3 वर्ष अर्थात 33 वर्ष की आयु तक
(iii) दिव्यांगजन 10 वर्ष (सामान्‍य) 13 वर्ष (अपिव) और 15 वर्ष (अजा /अजजा)
(iv) भूतपूर्व सैनिक सशस्‍त्र सेनाओं में की गई कुल सेवा की अवधि में 3 वर्ष जोड़ते हुए, लेकिन अधिकतम आयु 50 वर्ष से अधिक नहीं।
(v) विधवाएं/तलाकशुदा महिलाएं/कानूनी तौर पर अलग रह रही महिलाएं जिन्‍होंने पुन: विवाह नहीं किया है 10 वर्ष
(vi) जम्मू और कश्मीर राज्य में 01.01.1980 से 31.12.1989 तक की अवधि के दौरान अधिवासित व्यक्ति 5 वर्ष

नोट : उक्त प्रकारों या इनके साथ कोई और प्रकार मिलाते हुए आयु-सीमा में संचयी छूट नहीं दी जाएगी।

जाति संबंधी मानदंड :

i. अजा/अजजा/अपिव के रूप में आरक्षण मांगने वाले उम्मीदवारों को केवल निर्धारित प्रपत्र में ही भारत सरकार के तहत पदों पर नियुक्ति के लिए नामांकित प्राधिकारी द्वारा जारी प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होगा जिसमें उम्मीदवार की जाति, अधिनियम/आदेश जिसके तहत जाति को अजा/अजजा/अपिव के रूप में मान्यता दी गयी है और गाँव/कस्बा जिसका उम्मीदवार सामान्य रूप से निवासी है, का स्पष्ट रूप से उल्लेख होना चाहिए। उन्हें यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके जाति/समुदाय प्रमाणपत्र में उनकी जाति/समुदाय का नाम और उसकी वर्तनी ठीक वैसी ही हो जैसी केंद्र सरकार द्वारा समय-समय पर अधिसूचित की गयी है (केंद्रीय सूची में अपिव जातियों के रूप में भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त अपिव श्रेणी की जातियों के सूची http://www.ncbc.nic.in साइट पर उपलब्ध है, अजजा श्रेणी के लिए प्रत्येक राज्य की जाति की सूची www.ncst.nic.in साइट पर उपलब्ध है अजा श्रेणी के लिए प्रत्येक राज्य की जाति की सूची http://www.socialjustice.nic.in साइट पर उपलब्ध है | जाति प्रमाणपत्र में जाति के नाम में किसी अंतर की स्थिति में उसे स्वीकार नहीं किया जाएगा। इसके अलावा अपिव प्रमाणपत्र में स्पष्ट रूप से यह उल्लेख होना चाहिए कि उम्मीदवार क्रीमी लेयर से संबन्धित नहीं है जैसा कि भारत सरकार द्वारा केंद्र सरकार के तहत पदों और सेवाओं हेतु आवेदन करने के लिए परिभाषित किया गया है।

ii. किसी उम्मीदवार के अपिव के दावे का निर्धारण उस राज्य (या राज्य के भाग) के संबंध में किया जाएगा जिससे उनके पिता मूल रूप से संबंध रखते हैं। जो उम्मीदवार एक राज्य (या राज्य के भाग) से दूसरे में अंतरित हुए हैं, उन्हें अपने पिता के मूल रूप से संबन्धित होने वाले राज्य के अपिव प्रमाणपत्र के आधार पर जारी अपिव प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होगा।

iii. ऑनलाइन आवेदन में उम्मीदवार द्वारा पहले ही दर्शायी गयी समुदाय स्थिति में परिवर्तन की अनुमति नहीं होगी।

आयु में रियायत चाहने वाले उम्‍मीदवारों को दस्तावेज़ सत्यापन के समय आवश्‍यक प्रमाणपत्र(त्रों) की प्रतिलिपियां प्रस्तुत करनी होंगी।

(ख) शैक्षणिक योग्‍यता (01.01.2019 को):

कनिष्ठ अभियंता (सिविल): किसी मान्यता प्राप्त संस्थान या विश्वविद्यालय या बोर्ड से न्यूनतम 65% अंकों (अजा/अजजा/ दिव्यांगजनों के लिए 55%) के साथ सिविल इंजीनियरिंग में न्यूनतम तीन साल का डिप्लोमा या किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से 55% अंकों (अजा/अजजा/दिव्यांगजनों के लिए 45%) के साथ सिविल इंजीनीयरिंग़ की डिग्री।

कनिष्ठ अभियंता (इलैक्ट्रिकल): किसी मान्यता प्राप्त संस्थान या विश्वविद्यालय या बोर्ड से न्यूनतम 65% अंकों (अजा/अजजा/ दिव्यांगजनों के लिए 55%) के साथ इलैक्ट्रिकल या इलैक्ट्रिकल एंड इलैक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग में न्यूनतम तीन साल का डिप्लोमा या किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से 55% अंकों (अजा/अजजा/ दिव्यांगजनों के लिए 45%) के साथ इलैक्ट्रिकल या इलैक्ट्रिकल एंड इलैक्ट्रॉनिक इंजीनीयरिंग़ की डिग्री।

(ग) अनुभव: (01.01.2019 को)

कनिष्ठ अभियंता (सिविल): सिविल निर्माण कार्य तथा/या कार्यालय भवनों/वाणिज्यिक भवनों/आवासीय परिसरों के सिविल निर्माण तथा/अथवा सिविल रखरखाव में डिप्लोमा धारक को कम से कम 2 वर्ष तथा डिग़्री धारक को कम से कम 1 वर्ष के अनुभव के साथ आरसीसी डिज़ाइन तथा अन्य सिविल कार्यों का मूलभूत ज्ञान, कंप्यूटर का कार्यसाधक ज्ञान, सिविल कार्यों आदि के लिए संविदाएं तैयार करने का अनुभव होना चाहिए।

कनिष्ठ अभियंता (इलैक्ट्रिकल): एचटी/एलटी सब-स्टेशनों, केन्द्रीकृत ए.सी. प्लांट, लिफ्टों, यूपीएस, डीजी-सेट, सीसीटीवी, फायर एलार्म सिस्टम इत्यादि वाले बड़े भवनों/वाणिज्यिक भवनों में इलैक्ट्रिकल इंस्टलेशन को चालू करने तथा इनकी देखरेख के कामों में डिप्लोमा धारक को कम से कम 2 वर्ष तथा डिग़्री धारक को कम से कम 1 वर्ष का अनुभव।

नोट :

(1) पात्रता प्राप्त करने की तारीख विश्वविद्यालय / संस्थान द्वारा जारी किए गए अंक पत्र या अनंतिम प्रमाण पत्र पर प्रदर्शित तारीख होगी। यदि किसी विशेष परीक्षा का परिणाम विश्वविद्यालय / संस्थान की वेबसाइट पर पोस्ट किया जाता है, तो विश्वविद्यालय / संस्थान के उपयुक्त प्राधिकारी द्वारा जारी प्रमाणपत्र जिस पर वह तारीख दर्शायी गयी हो जिस दिन वेबसाइट पर परिणाम पोस्ट किया गया था, उस तारीख को उत्तीर्ण करने की तारीख माना जाएगा।

(2) ऑनलाइन आवेदन में उम्मीदवार को स्नातक में प्राप्त प्रतिशत निकटतम दो दशमलव अंकों तक दर्शाना चाहिए। जहां सीजीपीए / ओजीपीए दिया गया है तो उसे प्रतिशत में परिवर्तित किया जाना चाहिए और उसे ऑनलाइन आवेदन में दर्शाना चाहिए। यदि दस्तावेज़ सत्यापन के लिए बुलाया जाता है, तो उम्मीदवार को उपयुक्त प्राधिकारियों द्वारा जारी प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होगा जिसमें अन्य बातों के साथ-साथ ग्रेड से प्रतिशत में परिवर्तन संबंधी विश्वविद्यालय के मानदंडों और इन मानदंडों के अनुसार उम्मीदवार के अंकों के प्रतिशत का उल्लेख हो।

(3) प्रतिशत की गणना: प्रतिशत अंक उम्मीदवार द्वारा सभी विषयों में सभी सेमेस्टर (रों)/वर्ष (र्षों) में प्राप्त कुल अंकों द्वारा सभी विषयों के अधिकतम अंकों के कुल योग में भाग देते हुए निकाले जाएंगे चाहे कोई भी ऑनर्स / वैकल्पिक / अतिरिक्त वैकल्पिक विषय हों। यह उन विश्वविद्यालयों के लिए भी लागू होगा जहां क्लास/ग्रेड का निर्णय केवल ऑनर्स के अंकों के आधार पर किया जाता है। इस प्रकार प्राप्त प्रतिशत का अंश नजरअंदाज किया जाएगा अर्थात 49.99% को 50% से कम माना जाएगा।

(घ) कार्य का विवरण:

कनिष्ठ अभियंता (सिविल): भवन संबंधित संरचनात्मक प्रणाली से संबंधित सिविल निर्माण/ अनुरक्षण/ आंतरिक कार्य इत्यादि और कार्यालय भवनों एवं आवासीय कॉलोनियों में संबंधित अन्य काम संभालना और देखरेख करना।

कनिष्ठ अभियंता (इलैक्ट्रिकल): इलैक्ट्रिकल/ इलैक्ट्रो-मैकेनिकल/ इलैक्ट्रिकल एंड इलैक्ट्रोनिक्स इंस्टलेशन/ सिस्टम्स तथा कार्यालय भवनों एवं आवासीय कॉलोनियों में संबंधित अन्य कार्य संभालना और देखरेख करना।

5. चयन की प्रक्रिया:

उम्‍मीदवारों का चयन ऑनलाइन परीक्षा और उसके बाद भाषा प्रवीणता परीक्षा के माध्‍यम से किया जाएगा । ऑनलाइन परीक्षा 300 अंकों की होगी और यह परीक्षा अनंतिम रूप से फरवरी 2019 को आयोजित की जाएगी।

क्रमांक परीक्षा का नाम (वस्‍तुनिष्‍ठ) प्रश्‍नों की संख्‍या अधिकतम अंक
(कुल भारांक)
कुल समय
1 अंग्रेज़ी भाषा 50 50 150 मिनट (प्रत्येक खंड के लिए अलग समय)
2 इंजीनियरिंग विषय पेपर I 40 100
3 इंजीनियरिंग विषय पेपर II 40 100
4 सामान्य ज्ञान 50 50
  कुल 180 300  

ख) भाषा दक्षता परीक्षण (एलपीटी) – मुख्य ऑन-लाइन परीक्षा में अस्थायी रूप से चयनित उम्मीदवारों को भाषा दक्षता परीक्षण (एलपीटी) देना होगा। भाषा दक्षता परीक्षण संबंधित राज्य की आधिकारिक /सम्बंधित ज़ोन की स्थानीय भाषा में किया जाएगा (अनुलग्नक - IV)। आधिकारिक / स्थानीय भाषा में दक्ष नहीं होने वाले उम्मीदवार को अयोग्य घोषित किया जाएगा।

i) अंग्रेजी भाषा के परीक्षण के अलावा उक्त ऑनलाइन परीक्षण द्विभाषी अर्थात अंग्रेजी और हिन्‍दी में होंगे।

ii) उम्‍मीदवारों को ऑनलाइन परीक्षा के प्रत्‍येक वस्‍तुनिष्‍ठ परीक्षण उत्‍तीर्ण करने होंगे।

iii) वस्‍तुनिष्‍ठ परीक्षण में गलत उत्‍तरों के लिए नकारात्‍मक अंक दिए जाएंगे। प्रत्‍येक गलत जवाब के लिए ¼ अंक काटे जाएंगे।

iv) परीक्षा के बारे में अन्‍य विस्‍तृत जानकारी सूचना के हैन्‍डआउट में दी जाएगी, उम्‍मीदवारों को रिज़र्व बैंक की वेबसाइट से परीक्षा हेतु कॉल लैटर डाउनलोड करने के साथ यह हैन्‍डआउट भी डाउनलोड करने के लिए उपलब्‍ध करा दिया जाएगा।

v) ऑनलाइन परीक्षा में सफल उम्‍मीदवारों के रोल नंबर आरबीआई की वेबसाइट पर मार्च/ अप्रैल 2019 में प्रकाशित किए जाएंगे ।

vi) मानकीकृत अंक: यदि परीक्षा एक से अधिक सत्रों में आयोजित की जाती है तो प्रत्येक उम्मीदवार द्वारा विभिन्न सत्रों में प्राप्त अंकों को ईक्वीपरसेंटाइल पद्धति से समीकृत किया जाएगा।

vii) वस्‍तुनिष्‍ठ परीक्षणों में कुल प्राप्‍तांकों में पर्याप्‍त रूप से उच्‍च मैरिट पाने वाले उम्‍मीदवारों को पर्याप्‍त संख्‍या में भाषा दक्षता परीक्षण के लिए बुलाया जाएगा, इस मैरिट का निर्धारण बैंक द्वारा निर्धारित रिक्तियों के संबंध में निर्णय के आधार पर होगा।

viii) ऑनलाइन परीक्षा, बायोमैट्रिक सत्यापन और भाषा दक्षता परीक्षण में उम्मीदवार के निष्‍पादन के आधार पर मैरिट के अनुसार अंतिम चयन किया जाएगा।

ix) चयनित उम्मीदवार की नियुक्ति बैंक के नियमानुसार उसके चिकित्सीय रूप से फिट होने के अधीन होगी।

x) बायोमैट्रिक डाटा – कैप्चर करना तथा सत्यापन करना

यह निर्णय लिया गया है कि ऑनलाइन परीक्षा में शामिल होने वाले उम्मीदवारों का ऑनलाइन परीक्षा के दिन बायोमैट्रिक डाटा (अंगूठे की छाप या अन्य कोई) और उम्मीदवार का फोटोग्राफ कैप्चर किया जाए। इसके अलावा, बाद में भी इसका सत्यापन किया जा सकता हैं |

बायोमैट्रिक डाटा की स्थिति (मिलन होता है या नहीं) के संबंध में इसके सत्यापन प्राधिकारी का निर्णय अंतिम तथा उम्मीदवारों पर बाध्यकारी होगा।

उम्मीदवारों से अनुरोध है कि वे सुचारू प्रक्रिया सुनिश्चित करने के लिए निम्नलिखित बिन्दुओं पर ध्यान दें:

- यदि उंगलियों पर लेप (स्टैम्प इंक/मेहंदी/रंग…आदि) लगा हो तो सुनिश्चित करें कि वह पूरी तरह से धो दिया गया हो ताकि परीक्षा से पहले वह लेप हट जाए।

- यदि उंगलियां गंदी अथवा मटमैली हों तो सुनिश्चित करें कि फिंगरप्रिंट (बायोमैट्रिक) के कैप्चर होने से पहले उन्हें धो कर सुखा लिया गया हो।

- सुनिश्चित करें कि दोनों हाथों की उंगलियां सूखी हों। यदि उंगलियां नम हों तो प्रत्येक उंगली को सुखाने के लिए पोछें।

- यदि कैप्चर की जाने वाली मुख्य उंगली (बाया अंगूठा) चोटग्रस्त/क्षतिग्रस्त है तो परीक्षा केंद्र पर संबंधित अधिकारी को तुरंत सूचित करें। ऐसे मामलों में अन्य उंगलियों इत्यादि के छाप को कैप्चर किया जा सकता है।

6. परीक्षा केन्‍द्र:

(i) भारत में विभिन्न केन्द्रों पर ऑनलाइन परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। परीक्षा केन्‍द्रों की अनंतिम सूची अनुलग्‍नक II में दी गई है।

(ii) तथापि प्रतिक्रिया, प्रशासनिक सुलभता इत्यादि के परिप्रेक्ष्य में परीक्षा केन्द्रों को रद्द तथा/अथवा अन्य केन्द्रों को जोडने का अधिकार भारतीय रिज़र्व बैंक के पास सुरक्षित रहेगा।

(iii) भारतीय रिज़र्व बैंक के पास यह अधिकार सुरक्षित रहेगा कि वह किसी उम्मीदवार को उसके द्वारा चयनित केन्द्र के अलावा कोई अन्य केन्द्र आबंटित करे तथा किसी उम्मीदवार को उस राज्य/संघ शासित प्रदेश से बाहर कोई ऑनलाइन परीक्षा केन्द्र आबंटित करे जहां की रिक्ति के लिए उसने आवेदन किया हो।

(iv) उम्मीदवार परीक्षा केन्द्र/स्‍थान / सत्र / तारीख पर अपने जोख़िम तथा ख़र्चे पर परीक्षा के लिए उपस्थित होंगे और भारतीय रिज़र्व बैंक किसी भी प्रकार के हादसे अथवा हानि इत्यादि के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

(v) परीक्षा केन्द्र बदलने के अनुरोध पर विचार नहीं किया जाएगा।

7. सेवा की शर्तें / कैरियर संभावनाएं :

(i) वेतनमान :

चयनित उम्मीदवारों को 13150 – 750(3) – 15400 – 900(4) – 19000 – 1200(6) – 26200 – 1300(2) – 28800 –1480(3) – 33240 – 1750(1) – 34990 (20 वर्ष) के वेतनमान में आरंभ में 21,400/- प्रति माह (अर्थात कनिष्ठ अभियंताओं के लिए स्वीकार्य, 13150 में स्‍नातकों को देय नौ वेतन वृद्धियां ) और समय-समय पर स्‍वीकार्य अन्‍य भत्‍ते अर्थात मंहगाई भत्‍ता, आवास किराया भत्‍ता, शहर प्रतिपूर्ति भत्‍ता, परिवहन भत्‍ता आदि दिया जाएगा। वर्तमान में कनिष्ठ अभियंता (सिविल/इलैक्ट्रिकल) के लिए आरंभिक मासिक सकल परिलब्धियां लगभग 49,026/- हैं। स्नातक उम्मीदवार दो और अग्रिम वेतन वृद्धियों के लिए पात्र हैं।

(ii) अतिरिक्‍त सुविधाएं :

उपलब्‍धता के आधार पर बैंक का आवास, पात्रता के अनुसार कार्यालयीन प्रयोजनों से वाहन के रखरखाव पर व्यय की प्रतिपूर्ति, अख़बार, ब्रीफकेस, पुस्‍तक अनुदान, आवास सज्‍जा के लिए भत्‍ते आदि। पात्रता के अनुसार ओपीडी इलाज/अस्‍पताल में रहकर इलाज कराने के लिए मेडिकल व्‍यय की प्रतिपूर्ति के साथ-साथ डिसपेंसरी सुविधा, ब्याज मुक्‍त त्‍यौहार अग्रिम, छु‍ट्टी किराया रियायत (स्‍वयं के लिए, पति या पत्‍नी और पात्र आश्रितों के लिए दो वर्ष में एक बार)। बैंक मे कम से कम 2 वर्ष की सेवा अवधी पूर्ण करनेवाले कर्मचारी को आवास, कार, शिक्षा, उपभोक्‍ता वस्‍तुओं, पर्सनल कम्‍प्‍यूटर, आदि के लिए ब्‍याज की रियायती दरों पर ऋण और अग्रिम दिया जाएगा । भर्ती कर लिए गए उम्‍मीदवारों को ग्रेच्‍युटी के अलावा निश्चित अभिदान वाली नवीन पेंशन स्‍कीम के तहत रखा जाएगा।

(iii) उच्‍चतर ग्रेड में पदोन्‍नति की पर्याप्त संभावनाएं हैं।

(iv) चयनित उम्‍मीदवारों को आरंभ में बैंक के उसी भर्ती अंचल में स्थित कार्यालय में पदस्थापित किया जाएगा, जिसमें उन्‍होंने आवेदन किया था। तथापि, प्रशासनिक जरूरतें होने पर उन्‍हें पूर्व, पश्चिम, उत्‍तर, दक्षिण और मध्य अंचल में स्थित कार्यालयों में स्‍थानांतरित किया जा सकता है जो इस प्रकार हैं:

(i) पूर्व अंचल : कोलकाता, भुवनेश्वर, गुवाहाटी, पटना, शिलांग, अगरतला, गंगटोक, आइज़ोल, इंफाल

(ii) पश्चिम अंचल : अहमदाबाद, मुम्बई (बेलापुर, भायखला सहित), पुणे, पणजी

(iii) उत्‍तर अंचल : चंडीगढ़, शिमला, जयपुर, जम्‍मू / श्रीनगर, कानपुर, लखनऊ, देहरादून, नई दिल्‍ली, रांची

(iv) दक्षिण अंचल : ‍बंगलुरु, चेन्‍नै, कोच्चि, तिरुवनंतपुरम

(v) मध्य अंचल : भोपाल, रायपुर, नागपुर, हैदराबाद।

8. आवेदन कैसे करें :

उम्मीदवार 07.01.2019 से 30.01.2019 तक केवल ऑनलाइन ही आवेदन कर सकेंगें तथा आवेदन का कोई अन्य माध्यम स्वीकार्य नहीं होगा।

ऑनलाइन आवेदन के लिए जरूरी बातें

i. ऑनलाइन आवेदन से पहले, उम्मीदवार अपने फोटोग्राफ तथा हस्ताक्षर इस विज्ञापन के अनुलग्नक I में बतायी गयी आवश्यक विशेषताओं के अनुसार स्कैन कर लें।

ii. उम्मीदवार अपेक्षित आवेदन शुल्क/सूचना प्रभार का ऑनलाइन भुगतान करने के लिए आवश्यक विवरण/दस्तावेज तैयार रखें।

iii. उम्मीदवार के पास एक वैध व्यक्तिगत ई-मेल आईडी होनी चाहिए, जिसे इस भर्ती प्रक्रिया के परिणामों की घोषणा तक सक्रिय रखा जाना चाहिए। रिज़र्व बैंक परीक्षा के लिए कॉल लेटर इत्यादि रजिस्टर की गयी ई-मेल आईडी पर भेजेगा। किसी परिस्थिति में उम्मीदवार अपनी ई-मेल आईडी किसी दूसरे के साथ शेयर नहीं करें/ किसी दूसरे व्यक्ति की ई-मेल आई डी का उल्लेख नहीं करें। यदि किसी उम्मीदवार के पास वैध व्यक्तिगत ई-मेल आईडी नहीं हो, तो उसे चाहिए कि ऑन-लाइन आवेदन करने से पहले अपना नया ई-मेल आईडी बनाए तथा उस ईमेल एकाउंट को बरकरार रखे।

आवेदन शुल्क / सूचना प्रभार (लौटाया नहीं जाएगा):

दिनांक 07.01.2019 से 30.01.2019 (दोनों तारीखें शामिल) के बीच ऑन लाइन भुगतान किया जाए

50/- अजा/अजजा/दिव्यांग/भूतपूर्व सैनिक श्रेणी के लिए (सूचना प्रभार)

450/- अपिव/सामान्य श्रेणी उम्मीदवारों के लिए (परीक्षा शुल्क तथा सूचना प्रभार)

आवेदन शुल्क / सूचना प्रभार छूट केवल आरबीआई के उन कर्मचारियों (स्टाफ उम्मीदवारों) के लिए है जो 20 दिसंबर 2013 के परिपत्र CO.HRMD.No.G-75/5599/05.01.01/2013-2014 के अनुसार बैंक द्वारा निर्धारित पात्रता मानदंडों को पूरा करते हैं। स्टाफ उम्मीदवार के रूप में उनकी स्थिति एलपीटी / दस्तावेज़ सत्यापन के समय सत्यापित की जाएगी। यदि वे स्टाफ उम्मीदवारों (उपर्युक्त एचआरएमडी परिपत्र के अनुसार) के रूप में माने जाने के पात्र नहीं हैं, तो उन्हें सूचित किया जाता है कि वे खुद को गैर-स्टाफ उम्मीदवारों के रूप में दर्शाएँ और गैर-स्टाफ उम्मीदवारों के लिए लागू शुल्क / सूचना प्रभार का भुगतान करें।

आवेदन शुल्‍क /सूचना प्रभारों के ऑनलाइन भुगतान आदि के लिए बैंक लेनदेन प्रभारों का व्‍यय उम्‍मीदवार को स्‍वयं करना होगा।

ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया

क. उम्मीदवार पहले भारतीय रिज़र्व बैंक की वेबसाइट www.rbi.org.in पर जाएं। होम पेज पर ऑनलाइन आवेदन फार्म खोलने के लिए “Recruitment for the post of Junior Engineer (Civil / Electrical)” के लिंक पर क्लिक करें।

ख. उम्‍मीदवारों को “Click here for New Registration” पर क्लिक कर अपने आवेदन के रजिस्‍ट्रेशन हेतु ऑनलाइन आवेदन फार्म में अपने बारे में सामान्‍य जानकारी भरनी होगी। इसके बाद सिस्‍टम एक अस्‍थायी रजिस्‍ट्रेशन नम्‍बर तथा पासवर्ड जेनरेट करके उसे स्‍क्रीन पर दिखाएगा। उम्‍मीदवार इस अस्‍थायी रजिस्‍ट्रेशन नम्‍बर तथा पासवर्ड को नोट कर लें। अस्‍थायी रजिस्‍ट्रेशन तथा पासवर्ड दर्शाते हुए एक ईमेल तथा एसएमएस भी भेजा जाएगा। यदि जरूरत हो तो अस्‍थायी रजिस्‍ट्रेशन तथा पासवर्ड का प्रयोग करके save किए हुए डाटा को फिर से देखा और edit किया जा सकता है। एक बार save की हुई बेसिक जानकारी को edit नहीं किया जा सकता।

ग. उम्‍मीदवारों से अपेक्षा है कि दिशानिर्देशों (अनुलग्‍नक I) के अनुसार वे अपने हस्‍ताक्षर तथा फोटोग्राफ स्‍कैन करें और उसी हस्‍ताक्षर और फोटो को अपलोड करें।

घ. उम्मीदवार ऑनलाइन आवेदन में उचित स्थानों पर ध्यानपूर्वक जानकारी देते हुए इसे बहुत ही सावधानी से भरें और ऑनलाइन आवेदन फार्म के अंत में दिए हुए “final submit’’ बटन पर क्लिक करें। उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि आवेदन के अंत में दिए गए “final submit’’ बटन पर क्लिक करने से पहले आवेदन में भरे गए प्रत्येक फील्ड को जाँच लें। उम्मीदवार का या उसके पिता/पति आदि का नाम उसी प्रकार से भरा गया हो जैसा कि प्रमाणपत्र / अंक पत्र आदि में दिया गया है। किसी परिवर्तन/अंतर के पाए जाने पर उम्मीदवार अयोग्य ठहराया जा सकता है।

ङ. उम्‍मीदवारों को सूचित किया जाता है कि वे ऑनलाइन आवेदन सावधानी पूर्वक स्‍वयं ही भरें। “FINAL SUBMIT’’ बटन क्लिक करने के बाद कोई परिवर्तन संभव नहीं होगा।

च. यदि उम्‍मीदवार एक ही बार में आवेदन फार्म नहीं भर पा रहे हों तो वे प्रविष्‍ट किए गए डाटा को सेव कर सकते हैं। जब आवेदन पूरी तरह से भर जाए तो ही आवेदक अपना डाटा submit करें।

भुगतान का माध्यम :

अपेक्षित शुल्क भरने / सूचना प्रभार का भुगतान करने के लिए उम्मीदवारों के पास केवल ऑनलाइन माध्यम का विकल्प होगा :

आवेदन-फार्म और पेमेंट गेटवे आपस में जुड़े हैं, तथा निर्देशों का पालन करते हुए भुगतान प्रक्रिया पूरी की जा सकती है।

स्क्रीन पर मॉंगी गई सूचना देते हुए डेबिट कार्ड (रूपे, वीसा, मास्‍टर कार्ड/ माएस्‍त्रो), क्रेडिट कार्ड, इन्‍टरनेट बैंकिंग, आइएमपीएस, कैश कार्ड/ मोबाइल वैलैट के माध्यम से आवेदन शुल्‍क का भुगतान किया जा सकेगा।

“final submit’’ के बाद आवेदन फार्म के अन्‍य पृष्‍ठ दिखाई देंगे, जिसमें दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए उम्‍मीदवार अपेक्षित जानकारी भरें।

यदि आवेदन शुल्‍क का ऑनलाइन भुगतान पूरा नहीं हुआ है तो अस्‍थायी रजिस्‍ट्रेशन नम्‍बर तथा पासवर्ड का प्रयोग करते हुए दुबारा लॉगइन करें तथा आवेदन शुल्‍क/सूचना प्रभार का ऑनलाइन भुगतान करें।

भुगतान प्रक्रिया के सफलतापूर्वक पूरा हो जाने पर एक ई-रसीद तैयार हो जाएगी।

उम्मीदवार इस ई-रसीद तथा ऑन लाइन आवेदन का प्रिंट निकाल लें। कृपया नोट करें कि यदि ई-रसीद तैयार नहीं हुई है तो ऑनलाइन भुगतान प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है।

असफल प्रक्रिया के दौरान उम्‍मीदवार के पक्ष में डेबिट की गई रकम को उचित अंतराल पर उम्मीदवार के खाते में लौटा दिया जाएगा।

नोट:

ऑनलाइन आवेदन फार्म में भुगतान की जानकारी प्रस्तुत करने के बाद कृपया सर्वर से सूचना की प्रतीक्षा करें, दुगने शुल्क से बचने के लिए कृपया Back अथवा Refresh बटन न दबाएं।

क्रेडिट कार्ड प्रयोक्ता के लिए : सभी कीमतें भारतीय रुपए में अंकित हैं। यदि आप विदेशी क्रेडिट कार्ड का प्रयोग कर रहें हैं तो आपका बैंक विद्यमान विनिमय दर के अनुसार स्थानीय मुद्रा में परिवर्तन कर देगा।

आपके डेटा की सुरक्षा सुनिश्चित करने लिए कृपया प्रक्रिया पूरी हो जाने पर अपने ब्राउसर-विंडों को बंद कर दें।

कृपया नोट करें कि ऑनलाइन आवेदन में भरी गई जानकारी जिसमें उम्मीदवार का नाम, वर्ग, जन्मतिथि, पता, मोबाइल नंबर, ई-मेल आईडी, परीक्षा केन्द्र, इत्यादि सम्मिलित हैं, अंतिम मानी जाएगी और ऑनलाइन आवेदन फार्म SUBMIT कर देने के बाद इसमें कोई परिवर्तन स्वीकार्य नहीं होगा। अत: उम्मीदवारों से अनुरोध है कि ऑनलाइन आवेदन अत्यंत सावधानीपूर्वक भरें क्योंकि विवरणों में परिवर्तन के लिए किसी प्रकार के पत्राचार पर विचार नहीं किया जाएगा। आवेदन फार्म में गलत और अपूर्ण विवरण दिए जाने या आवेदन फॉर्म में अपेक्षित विवरण छूट जाने के परिणामस्वरूप उत्पन्न स्थितियों के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक उत्तरदायी नहीं होगा।

ऑनलाइन आवेदन, जो किसी भी रूप में अधूरा हो, मान्य नहीं होगा, जैसे ऑनलाइन आवेदन फार्म के साथ फोटोग्राफ तथा हस्ताक्षर अपलोड नहीं किया गया हो।

उम्मीदवारों को उनके अपने हित में सलाह दी जाती है कि अंतिम तारीख से काफी पहले वे ऑनलाइन आवेदन करें और शुल्क जमा करने के लिए अंतिम तारीख की प्रतीक्षा न करें, ताकि इंटरनेट पर भारी लोड/वेबसाइट जाम के कारण भारतीय रिज़र्व बैंक की वेबसाइट पर लॉगऑन करने में डिस्कनैक्ट/अक्षम/असफल होने की संभावना से बच सकें।

उक्त किसी भी कारण से अथवा भारतीय रिज़र्व बैंक के नियंत्रण से बाहर किसी भी कारण से उम्मीदवारों द्वारा अंतिम तारीख के भीतर उनके आवेदन नहीं प्रस्तुत कर पाने के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।

कृपया नोट करें की उक्त प्रक्रिया ही आवेदन करने की वैध प्रक्रिया है। किसी भी अन्य माध्यम से आवेदन अथवा अधूरी प्रक्रिया स्वीकार नहीं की जाएगी और ऐसे आवेदन अस्वीकार कर दिए जाएंगे।

आवेदन में भरी गई कोई भी सूचना/विवरण उम्मीदवार के लिए व्यक्तिगत रूप से बाध्यकारी होगी, तथा यदि बाद में पाया जाता है कि उसके द्वारा दी गई जानकारी/विवरण असत्य है तो वह न्यायिक कार्रवाई/सिविल कार्रवाई का भागी होगा।

9. सामान्‍य नियम/ अनुदेश:

(i). उम्‍मीदवार केवल एक पद और एक अंचल के लिए आवेदन कर सकते हैं। एक से अधिक रजिस्ट्रेशन की स्थिति में केवल अंतिम रजिस्ट्रेशन मान्य होगा।

(ii). ऑनलाइन आवेदन करते समय उम्मीदवारों को किसी भी पते पर अपने आवेदन का प्रिन्ट या कोई प्रमाणपत्र या इनकी प्रतिलिपियां भेजने की जरूरत नहीं है। आवेदन में दी गई जानकारी के आधार पर ही उनकी उम्मीदवारी पर विचार किया जाएगा। यदि किसी भी स्तर पर यह पाया जाता है कि ऑनलाइन आवेदन में दी गई जानकारी मिथ्या/गलत है या रिज़र्व बैंक के अनुसार उम्मीदवार पात्रता के मानदंडों को पूरा नहीं करता/करती है तो उसकी उम्मीदवारी/नियुक्ति को रद्द/समाप्त किया जा सकता है।

(iii). सभी शैक्षणिक योग्यताएं भारत या विदेश के मान्यता प्राप्त बोर्ड/विश्वविद्यालयों/संस्थानों से प्राप्त होनी चाहिए। यदि अंकों के स्थान पर ग्रेड दिए गए हैं तो उम्मीदवारों को चाहिए कि वे ग्रेड का अंकीय समकक्ष स्पष्ट रूप से बताएं।

(iv). उम्मीदवारों को उनके अपने हित में सलाह दी जाती है कि अंतिम तारीख से काफी पहले वे ऑनलाइन आवेदन करें और शुल्क जमा करने के लिए अंतिम तारीख की प्रतीक्षा न करें, ताकि इंटरनेट पर भारी लोड/वेबसाइट जाम के कारण भारतीय रिज़र्व बैंक की वेबसाइट पर लॉगऑन करने में डिस्कनैक्ट/अक्षम/असफल होने की संभावना से बच सकें।

(v). आवेदन के लिए पात्रता के बारे में सलाह देने के लिए उम्‍मीदवारों के किसी भी अनुरोध पर बैंक विचार नहीं करेगा।

(vi). ऑनलाइन परीक्षा के लिए कॉल लैटर डाउनलोड करने के लिए उम्‍मीदवारों को रिज़र्व बैंक की वेबसाइट पर जाना होगा। कॉल लैटर डाउनलोड करने की सूचना ई-मेल/एसएमएस द्वारा भेजी जाएगी। संबंधित लिंक पर क्लिक कर उम्मीदवार कॉल लेटर डाउनलोड करने का विंडो खोल सकेंगे। कॉल लेटर डाउनलोड करने के लिए उम्मीदवारों को (i) रजिस्ट्रेशन संख्या/रोल नंबर, (ii) पासवर्ड/जन्मतिथि का प्रयोग करना होगा। उम्मीदवार कॉल लेटर पर अपना आसानी से पहचानने योग्य नवीनतम फोटो चिपकाएं जो मुख्यत: वही फोटो हो जो रजिस्ट्रेशन के समय दिया गया था तथा परीक्षा केंद्र पर (i) कॉल लेटर (ii) नीचे दिए खंड (xiii) के अनुसार और कॉल-लेटर में दिए विनिर्देशों के अनुसार फोटो-युक्‍त पहचान का प्रमाण तथा लाए हुए फोटो-युक्‍त पहचान की एक प्रतिलिपि साथ लाएं।

(vii) परीक्षा में बैठने के लिए उम्‍मीदवारों को अपने खर्च पर आना होगा।

(viii) देर से आनेवाले उम्मीदवार अर्थात कॉल-लैटर में बताए गए रिपोर्टिंग समय के बाद परीक्षा के लिए आने वाले उम्मीदवार को परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी जाएगी। कॉल-लैटर में दिया गया रिपोर्टिंग समय परीक्षा प्रारंभ होने के समय से पहले का समय है। यद्यपि परीक्षा का समय 2.5 घंटे है, तथापि उम्मीदवारों को परीक्षा स्थल पर लगभग चार घंटे रुकना पड़ सकता है, जिसमें विभिन्न औपचारिकताओं जैसे जाँच तथा विभिन्न अपेक्षित दस्तावेजों को जमा करना, लॉग-इन करना, निर्देश देना इत्यादि सम्मिलित है।

(ix) एलपीटी / दस्तावेज़ सत्यापन के लिए बुलाए गए उम्‍मीदवारों को एलपीटी / दस्तावेज़ सत्यापन के समय उम्र/योग्‍यता/वर्ग आदि से संबंधित दस्‍तावेज प्रस्‍तुत करने होंगे। जो उम्‍मीदवार अजा/अजजा/अपिव के तौर पर आरक्षण चाहते हैं उन्‍हें निर्धारित प्रोफार्मे में सक्षम प्राधिकारी से प्राप्‍त प्रमाणपत्र प्रस्‍तुत करना होगा, जिसमें उम्‍मीदवार की जाति, अधिनियम/आदेश जिसके तहत उम्‍मीदवार की जाति को अजा/अजजा/अपिव के तौर पर मान्‍यता दी गई है और गाँव /कस्बा जहाँ का उम्‍मीदवार मूल निवासी है, का स्‍पष्‍ट रूप से उल्‍लेख होना चाहिए।

(x) उम्र में रियायत चाहने वाले उम्‍मीदवारों को एलपीटी / दस्तावेज़ सत्यापन के समय आवश्‍यक प्रमाणपत्र(त्रों) की प्रतिलिपियाँ प्रस्‍तुत करनी होंगी।

(xi) अपिव के तौर पर आरक्षण चाहने वाले उम्‍मीदवार को निर्धारित प्रपत्र में घोषणा करनी होगी कि वह एलपीटी / दस्तावेज़ सत्यापन की तारीख को क्रीमी लेयर से संबद्ध नहीं है। अपिव प्रमाणपत्र, जिसमें नॉन-क्रीमी वाक्‍यांश भी निहित हो, 01.11.2018 के बाद जारी किया होना चाहिए।

(xii) सरकारी क्षेत्र, सरकारी स्वामित्व वाले औद्योगिक उपक्रमों, सरकारी उपक्रमों/वित्तीय संस्थाओं/बैंकों, लोक उद्यम या ऐसे अन्य संगठनों में स्थायी या अस्थाई क्षमता में या कैजुयल अथवा दैनिक आधार पर कर्मचारी से अलग कार्य-प्रभारित कर्मचारी के रूप में काम कर रहे सभी उम्मीदवार बैंक को अपना ऑनलाइन आवेदन प्रस्तुत करने से पहले अपने नियोक्ता (कार्यालय/विभाग प्रमुख) को इस भर्ती के लिए आवेदन के बारे में लिखित में सूचित करें। ऐसे संगठनों में काम कर रहे उम्मीदवारों से अपेक्षित है कि ऑनलाइन आवेदन करते समय वे यह वचनपत्र प्रस्तुत करें कि उन्होंने इस भर्ती के लिए आवेदन करने के बारे में अपने कार्यालय/विभाग प्रमुख को लिखित में सूचित किया है। उम्मीदवार यह ध्यान दें कि यदि उनके नियोक्ता से बैंक को यह सूचना प्राप्त होती है कि उम्मीदवार को भर्ती के लिए आवेदन/परीक्षा में प्रवेश के लिए अनुमति रोकी जाती है तो उनका आवेदन/उम्मीदवारी अस्वीकार/रद्द किए जाने के अधीन है। कार्यग्रहण के समय चयनित उम्मीदवारों को अपने पीएसयू/सरकारी/अर्ध-सरकारी नियोक्ता से सेवामुक्ति का शर्त-रहित प्रमाण-पत्र लाना होगा।

(xiii) परीक्षा भवन में तथा एलपीटी के समय कॉल लेटर के साथ वर्तमान में वैध पहचान पत्र तथा फोटो सहित आधार कार्ड / पैन कार्ड / पासपोर्ट/ ड्राइविंग लाइसेंस / वोटर कार्ड / बैंक की पासबुक फोटो सहित/ आधिकारिक लैटरहेड पर किसी राजपत्रित अधिकारी द्वारा जारी फोटोयुक्‍त पहचान पत्र/ आधिकारिक लैटरहेड पर किसी जनप्रतिनिधि द्वारा जारी फोटोयुक्‍त पहचान पत्र/ मान्‍यता प्राप्‍त विश्‍वविद्यालय/कॉलेज द्वारा जारी वैध तथा नवीनतम पहचानपत्र/ कर्मचारी आईडी/ बार-काउंसिल का जारी फोटो-युक्‍त पहचान पत्र में से कोई एक मूल रूप में तथा उसकी प्रतिलिपि परीक्षक को सत्यापन हेतु प्रस्तुत की जाए। उम्मीदवार की पहचान को कॉल लेटर में दिए गए विवरण, उपस्थिति सूची तथा प्रस्तुत किए गए अपेक्षित दस्तावेज़ से सत्‍यापित किया जाएगा। यदि उम्मीदवार की पहचान संदिग्ध है तो उसे परीक्षा में बैठने नहीं दिया जाएगा।

नोट: उक्त उद्देश्य हेतु पहचान पत्र के रूप में राशन कार्ड और लर्नर ड्राइविंग लाइसेंस वैध नहीं है।

नोट: उम्मीदवार परीक्षा / एलपीटी देते समय क्रमश: परीक्षा कॉल लेटर तथा एलपीटी कॉल लेटर के साथ फोटो पहचान-पत्र प्रमाण मूल में तथा प्रति में प्रस्तुत करनी होगी, जिसके बिना उन्हें परीक्षा/ एलपीटी में नहीं बैठने दिया जाएगा। उम्मीदवार नोट करें कि कॉल लैटर पर प्रदर्शित नाम (जो रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया के दौरान दिया गया था) फोटो पहचान प्रमाण पर दिए नाम से पूरी तरह मेल खाना चाहिए। महिला उम्मीदवार जिन्होंने विवाह के बाद अपना पहला/ अंतिम/ मध्य नाम बदल लिया हो, वे इसका विशेष ध्यान रखें। यदि कॉल-लैटर में तथा फोटो पहचान प्रमाण में दिए गए नामों में कोई भी असमानता पाई गई तो उम्मीदवार को परीक्षा में बैठने नहीं दिया जाएगा।

(xiv) उम्मीदवारों को उनके अपने हित में सलाह दी जाती है कि ऑनलाइन आवेदन करते समय कोई भी मिथ्या, बनावटी अथवा जाली विवरण नहीं दें और न ही कोई महत्‍वपूर्ण जानकारी छिपाएं।

यदि परीक्षा, एलपीटी अथवा इसके बाद में चयन प्रक्रिया के दौरान उम्मीदवार निम्नलिखित का दोषी है (पाया जाता है)

(क) अनुचित तरीकों का प्रयोग करने या

(ख) किसी दूसरे का वेश धारण करने या किसी अन्‍य व्‍यक्ति द्वारा वेश धारण करवाए जाने या

(ग) परीक्षा/ एलपीटी भवन में दुर्व्यवहार करना या किसी प्रयोजन के लिए परीक्षा(ओं) की विषय-वस्‍तु या उसकी किसी जानकारी को पूरा या उसके किसी भाग को किसी भी रूप में या किसी भी माध्‍यम से, मौखिक या लिखित, इलेक्‍ट्रॉनिक या मैकैनिकल माध्‍यम से बताना, प्रकाशन, पुन: प्रस्‍तुत करना, प्रसार करना, एकत्र करना या प्रसार और एकत्र करने में सहायता करने या

(घ) चयन के लिए अपनी उम्‍मीदवारी के संबंध में किसी असंगत या अनुचित तरीके का सहारा लेने या

(ङ) अपनी उम्‍मीदवारी के लिए किसी अनुचित तरीके से समर्थन लेने,

(च) परीक्षा/ एलपीटी कक्ष में मोबाइल फोन या संचार का कोई भी साधन लाने वाले उम्‍मीदवार आपराधिक अभियोग के अलावा निम्‍नलिखित कार्रवाई के भागी होंगे :

i. वह जिस परीक्षा का/की उम्‍मीदवार है, उसके लिए अयोग्‍य हो जाएगा/जाएगी

ii. भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा आयोजित किसी परीक्षा या भर्ती से स्‍थायी रूप से या विनिर्दिष्‍ट अवधि के लिए उसे प्रतिबंधित कर दिया जाएगा।

iii. यदि उसने पहले ही भारतीय रिज़र्व बैंक में कार्यग्रहण कर लिया है तो, सेवाएँ समाप्‍त कर दी जाएंगी।

(xv). भारतीय रिज़र्व बैंक उम्‍मीदवारों के उत्तरों को परीक्षा में बैठे अन्‍य उम्‍मीदवारों के उत्तरों से मिलाते हुए विश्‍लेषण करेगा, ताकि सही और गलत जवाबों में एकरूपता के पैटर्न को पकड़ा जा सके। ऐसे विश्लेषण के आधार पर, यदि यह पाया जाता है कि उत्‍तरों को शेयर किया गया है और प्राप्‍तांक असली/वैध नहीं हैं, तो भारतीय रिज़र्व बैंक को उसकी उम्‍मीदवारी रद्द करने का अधिकार होगा और ऐसे (अयोग्‍य) उम्मीदवारों का परिणाम रोक दिया जाएगा।

(xvi). किसी भी प्रकार की सिफारिश को अयोग्‍यता माना जाएगा।

(xvii). रिज़र्व बैंक के साथ सभी पत्राचारों में आवेदन प्रस्‍तुत करने के बाद प्राप्‍त पंजीकरण संख्‍या और ‘प्रवेशपत्र’ में दिए गए रोल नंबर का उल्‍लेख अवश्‍य किया जाए।

(xviii). पात्रता, परीक्षाओं के आयोजन, एलपीटी, आकलन, ऑनलाइन परीक्षा, ऑनलाइन परीक्षा और एलपीटी में न्यूनतम अर्हक मानकों के निर्धारण, रिक्तियों की संख्‍या और परिणामों को सूचित करने के बारे में बैंक का निर्णय अंतिम और उम्‍मीदवारों के लिए बाध्‍यकारी होगा, और इस बारे में किसी पत्राचार पर विचार नहीं किया जाएगा।

(xix) परीक्षा के आयोजन में कुछ समस्‍याओं के होने की संभावना से इन्‍कार नहीं किया जा सकता, इससे परीक्षा लेने और/अथवा परिणाम तैयार करने का कार्य प्रभावित हो सकता है। उस स्थिति में समस्‍या को सुधारने का भरसक प्रयास किया जाएगा, जिसमें उम्‍मीदवारों को दूसरे केन्‍द्र पर भेजना या यदि जरूरी समझा गया तो परीक्षा को फिर से आयोजित करना शामिल है। इस बारे में भारतीय रिज़र्व बैंक का निर्णय अंतिम होगा, जिन उम्‍मीदवारों को ये परिवर्तन स्‍वीकार नहीं होंगे वे अपनी उम्‍मीदवारी से वंचित रह जाएंगे।

(xx) यदि परीक्षा का आयोजन एक से अधिक सत्रों में किया जाता है तो सभी सत्रों में प्रयुक्त परीक्षण बैटरियों के कठिनाई स्तर में थोड़े से भी अंतर को समायोजित करने के लिए विभिन्न सत्रों में प्राप्त स्कोर को समसमान किया जाएगा। किसी केन्द्र पर यदि नोडों की क्षमता कम है या किसी उम्मीदवार के नोड पर कोई तकनीकी व्यवधान आ जाता है, तो एक से अधिक सत्र अपेक्षित हो जाता है।

(xxi) जहां परीक्षा का आयोजन किया गया है उस परिसर में मोबाइल फोन, पेजर या संचार का कोई भी साधन लाने की अनुमति नहीं है। इन अनुदेशों का उल्‍लंघन किया जाता है तो अनर्हता सहित भविष्‍य में परीक्षाओं में बैठने पर प्रतिबंध लगाया जा सकता है।

(xxii) परीक्षा भवन में कैलकुलेटर का प्रयोग करने या इसे अपने पास रखने की अनुमति नहीं है।

(xxiii) उम्‍मीदवारों को उनके हित में सलाह दी जाती है कि परीक्षा केन्‍द्र पर मोबाइल सहित अन्‍य कोई भी निषिद्ध वस्‍तु नहीं लाएं, क्‍योंकि इन वस्‍तुओं की सुरक्षा की व्‍यवस्‍था नहीं की जा सकती है।

(xxiv) रिज़र्व बैंक उम्‍मीदवारों को अंक तालिका नहीं देगा। हालांकि ऑनलाइन परीक्षा के अंक अंतिम परिणामों की घोषणा के बाद बैंक की वेबसाइट पर देखे जा सकते हैं।

(xxv) इन पदों के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक (स्‍टाफ-उम्‍मीदवार) के वे कर्मचारी भी आवेदन कर सकेंगे, जो पात्रता मानदंडों को पूरा करते हों।

(xxvi) इस विज्ञापन और/अथवा इसके प्रतिउत्‍तर में किसी आवेदन की वजह से किसी मामले में कोई कानूनी कार्रवाई या कोई विवाद पैदा होता है तो किसी दावे या विवाद के संबंध में कोई भी कानूनी कार्रवाई केवल मुम्‍बई में शुरू हो सकती है और केवल मुम्‍बई में स्थित न्‍यायालयों/ट्रिब्‍युनलों/फोरमों के एकल और एकमात्र अधिकार क्षेत्र में ही वाद/मुकदमे की जांच होगी।

(xxvii) उम्‍मीदवार का परीक्षा/एलपीटी में प्रवेश पूर्णतया अनंतिम है। उम्‍मीदवार को कॉल लेटर भेजा गया है, केवल इस तथ्य का आशय यह नहीं है कि उसकी उम्‍मीदवारी को रिज़र्व बैंक ने पूरी तरह से स्‍वीकार कर लिया है।

उम्‍मीदवार द्वारा चयन प्रक्रिया के किसी भी स्‍तर पर गलत सूचना देने तथा/अथवा नियमों का उल्‍लंघन करते हुए पाए जाने पर उम्‍मीदवार को चयन प्रक्रिया के लिए अयोग्‍य घोषित किया जाएगा और भविष्‍य में भारतीय रिज़र्व बैंक की किसी भी भर्ती प्रक्रिया में शामिल नहीं होने दिया जाएगा। यदि ऐसी घटनाएं वर्तमान चयन प्रक्रिया में उजागर नहीं होकर बाद में होती हैं तो ऐसी अयोग्‍यता पूर्व प्रभाव से लागू होगी।

Server 214
शीर्ष