दिनांक : 06/18/2018भारतीय रिज़र्व बैंक में रिसर्च इनटर्नशिप

उद्देश्य

  • रिसर्च इंटर्नशिप योजना नए व्यक्तियों को केंद्रीय बैंकिंग में अग्रणी रिसर्च के द्वारा अपने आप को प्रदर्शित करने का अवसर उपलब्ध करवाती है । यह योजना उनके लिए बहुत लाभकर है जिन्होंने हाल ही में अपना कॉलेज पूरा किया है और अर्थशास्त्र, बैंकिंग, वित्तीय या संबन्धित क्षेत्र में पीएचडी करना चाहते हैं अथवा जो सरकारी अनुसंधान संस्थाओं या वित्तीय संस्थाओं में काम करना चाहते हों जहां मात्रात्मक एवं विश्लेषणात्मक अभिमुखता की आवश्यकता है।

भूमिका विवरण

अवसर देशी और विदेशी छात्रों के लिए खुला होगा।

  • मजबूत प्रेरणा महत्वपूर्ण है। हमारा कार्य वातावरण उम्मीदवारों को अनुसंधान में सीखने और भाग लेने के कई अवसर प्रदान करेगा। उम्मीदवारों को अनुसंधान के हमारे मुख्य क्षेत्रों में उत्सुकता से रुचि होनी चाहिए और इन क्षेत्रों में हमारे काम से लाभ प्राप्त करने में भी सक्षम होना चाहिए।

इंटर्न

  • नीति इनपुट उपलब्ध कराने और उच्च स्तर के अर्थशास्त्र और वित्तीय पत्रिकाओं के प्रकाशन के लिए लक्षित पेपरों के प्रोजेक्ट पर भारिबैं अनुसंधानकर्ताओं के साथ सहयोग करेंगे ।

  • सटीक और समयपूर्वक आंकड़ों के संकलन में सहयोग करेंगे तथा अनुसंधान प्रोजेक्ट को क्रियान्वित करने के लिए संबन्धित विवेचनात्मक सांख्यिकी और आवश्यक इकोनोमेट्रिक टूल के साथ मदद करेंगे।

  • उन्हें उच्च गुणवता के अनुसंधान और नीति संबंधी लेख लिखने के लिए कहा जा सकता है।

तैनाती

रिज़र्व बैंक के विभाग जैसे आर्थिक एवं नीति अनुसंधान (डीईपीआर) / सांख्यिकी और सूचना प्रबंध विभाग (डीएसआईएम) / कार्यनीति अनुसंधान इकाई (एसआरयू) / वित्तीय स्थिरता इकाई (एफएसयू) तथा अन्तर्राष्ट्रीय विभाग (आईडी) में तैनाती होगी जिनके बारे में जानकरी इस दस्तावेज़ के अंत में दी गयी है।

अर्हता

  • डीएसआईएम के लिए योग्यताएं- सांख्यिकी /इकोनोमेट्रिक्स /अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर या बीई/बीटेक(कंप्यूटर) या एमबीए (वित्त)।

  • डीईपीआर के लिए योग्यताएं – अर्थशास्त्र, बैंकिंग, वित्त में स्नाकोत्तर या एमबीए (वित्त)।

  • एसआरयू के लिए योग्यताएं- बीटेक या बी॰ई या अर्थशास्त्र,वित्त,या सांख्यिकी विज्ञान में मात्रात्मक-अभिमुखता के साथ स्नातकोत्तर हो या उन्हें कंप्यूटर या आंकड़ा विश्लेषण में विशेषज्ञता प्राप्त होना आवश्यक है । प्रोग्रामिंग कौशल या उन्हें प्राप्त करने की क्षमता आवश्यक है।

  • एफएसयू के लिए योग्यताएं- एक प्रतिष्ठित संस्थान / विश्वविद्यालय से व्यवहारिक अर्थशास्त्र पर जोर देते हुए सांख्यिकी / अर्थशास्त्र / वित्त / अन्तर्राष्ट्रीय वित्त / अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्ध में स्नातकोत्तर।

  • अन्तर्राष्ट्रीय विभाग के लिए योग्यताएं- अर्थशास्त्र / सांख्यिकी / वित्त / अन्तर्राष्ट्रीय वित्त / अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार / वित्त / बैंकिंग / अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्ध में विशेषज्ञता के साथ एमबीए । अपेक्षित अर्हताएं: एप्लाइड एकोनोमेट्रिक्स और मात्रात्मक तकनीकों में दक्षता; कुछ एकोनोमेट्रिक्स सॉफ्टवेयर के साथ परिचितता (जैसे स्टाटा / एव्यूज़ / मैटलैब / आर / गॉस)।

कार्य अनुभव

  • पूर्व-आवश्यकता नहीं है।

आवेदन की प्रक्रिया

  • चयन वर्ष में दो बार भारतीय रिज़र्व बैंक की आवश्यकता के आधार पर इस प्रकार किया जाएगा कि इंटर्नशिप की शुरूआत संबंधित वर्ष की 01 जनवरी या 01 जुलाई से हो। आवेदन विंडो छमाही के पहले पांच महीने के दौरान खुली रहेगी। उदाहरण के लिए 1 जनवरी से शुरू इंटर्नशिप के लिए आवेदन पिछले वर्ष के जुलाई-नवंबर की अवधि के दौरान स्वीकार किया जाएगा और उसी वर्ष दिसंबर में जांचा जाएगा। इसी प्रकार, 1 जुलाई से शुरू इन्टर्नशिप के लिए आवेदन जनवरी-मई की अवधि में स्वीकार किया जाएगा और उसी साल के जून में जांचा जाएगा।

  • अभ्यर्थियों का आवेदन केवल आवेदन किए गए बैच के लिए मान्य होगा (1 जनवरी/1 जुलाई) और उनके आवेदनों पर अगले बैच के लिए विचार नहीं किया जाएगा। अभ्यर्थी जिनका पहले चयन नहीं हुआ, यदि वे इसमें रुचि रखते हैं तो उनसे अनुरोध है कि वे जब अगले बैच के लिए आवेदन शुरू होता है तो नया आवेदन कर सकते हैं।

  • अभ्यर्थियों का सीवी,संदर्भों और उद्देश्य कथन के आधार पर रिज़र्व बैंक द्वारा चयन किया जाएगा और तदुपरांत व्यक्तिगत साक्षात्कार के लिए बुलाया जाएगा। रुचि रखने वाले अभ्यर्थियों को वांछनीय अनुसंधान क्षेत्र /विभाग से संबन्धित ई-मेल आईडी पर ई-मेल के माध्यम से अपना सीवी,संदर्भ तथा उद्देश्य कथन भेजने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

  • अपूर्ण और बिना सीवी, संदर्भों और/या उद्देश्य कथन के आवेदनों को अस्वीकार कर दिया जाएगा।

  • आवेदनकर्ता के संबन्धित कॉलेजों/संस्थाओं के संकाय सदस्यों से संदर्भ लिया जा सकता है।

आवेदन फॉर्म डाउनलोड लिंक

अवधि

  • इंटर्नशिप अवधि छह माह की होगी इसे अगले छह माह के लिए इकाई की आवश्यकताओं और प्रशिक्षु के प्रदर्शन के आधार पर बढ़ाया जा सकता है। अगले विस्तार के लिए असाधारण प्रदर्शन पर विचार किया जा सकता है (कुल इंटर्नशिप अवधि प्रत्येक छह माह में नवीनीकरण के प्रावधान के साथ अधिकतम 2 साल की हो सकती है)।

  • प्रशिक्षु को अपने चयन के बाद छह माह की इंटर्नशिप आवश्यक रूप से पूरी करनी होगी और यदि वह इस अवधि से पहले इसे समाप्त करना चाहता / चाहती है तो कम से कम एक माह की नोटिस अवधि पूरी करनी होगी। यदि किसी परिस्थिति में, प्रशिक्षु नोटिस अवधि नहीं पूरी कर पाता है तो उसे एक माह के स्टाइपेंड के बराबर की राशि वापस लौटानी होगी।

  • इंटर्नशिप मुंबई, भारत में होगी।

  • भारिबैं बिना कारण बताए एक माह का नोटिस देकर इंटर्नशिप को समाप्त कर सकता है।

उपलब्ध सुविधाएं

  • भारिबैं प्रशिक्षुओं को कार्यालय स्थल,इंटरनेट कनेक्टिविटी और अन्य सहयोगी सुविधाएं उपलब्ध कराएगा।

  • भारिबैं रु.35,000/- प्रतिमाह स्टाइपेंड का भुगतान करेगा ।

  • इंटर्न प्रति छह महीनों में 12 दिनों की दर से छुट्टी लेने के लिए पात्र होगा (छुट्टी की गणना किसी भी अंशकालिक अवधि के लिए प्रो राटा आधार पर की जाएगी) और उपर्युक्त अवधि से परे किसी भी अनुपस्थिति को मुआवजे के बिना छुट्टी के रूप में माना जाएगा।

  • इंटर्न को स्वयं अपना आवासीय प्रबंध करना होगा।

गोपनीयता की घोषणा

  • प्रशिक्षुओं को इंटर्नशिप शुरू होने से पूर्व निर्धारित प्रारूप में भारिबैं को गोपनीयता की घोषणा करनी होगी।

नियुक्ति पर अधिकार नहीं

  • प्रशिक्षु अपने इंटर्नशिप के आधार पर रिज़र्व बैंक में नियुक्ति के लिए कोई अधिकार/दावा नहीं कर सकता।

चयन प्रक्रिया

  • बैंक प्रत्येक वर्ष अधिकतम 20 प्रशिक्षुओं का चयन करेगा।

  • रिज़र्व बैंक के विभाग जैसे डीईपीआर / डीएसआईएम / एसआरयू / एफएसयू / आईडी में तैनाती होगी ।

  • इच्छुक अभ्यर्थी अपनी रुचि के अनुसंधान क्षेत्र में नीचे दिये गए पते पर संबन्धित विभाग को सीवी, संदर्भ और उद्देश्य कथन सहित सीधे आवेदन कर सकते हैं।

  • अभ्यर्थियों का सीवी,संदर्भों और उद्देश्य कथन के आधार पर रिज़र्व बैंक द्वारा चयन किया जाएगा और तदुपरांत व्यक्तिगत साक्षात्कार के लिए बुलाया जाएगा।

  • प्रत्येक विभाग (डीईपीआर/ डीएसआईएम/ एसआरयू/एफएसयू/आईडी) के बारे में जानकारी नीचे दी गयी है।

आर्थिक एवं नीति अनुसंधान (डीईपीआर)

  • आर्थिक और नीति अनुसंधान विभाग समष्टि अर्थशास्त्र मुद्दों विशेषतया मौद्रिक नीति, वित्तीय बाज़ार, परिवर्तनशील समष्टि अर्थशास्त्र स्थिति के बारे में बताते, वित्तीय स्थिरता, और बाह्य क्षेत्र प्रबंधन पर संरचित अनुसंधान एजेंडा के अंतर्गत अनुसंधान संबन्धित नीति को क्रियान्वित करने का कार्य करता है।

  • मौद्रिक राशियों, भुगतान संतुलन और बाह्य ऋण, राशि-प्रवाह, वित्तीय बचतें और राज्यों के वित्त पोषण पर प्राथमिक आंकड़ों को विभाग में संकलित किया जाता है जो रिज़र्व बैंक द्वारा प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से प्रसारित किए जाते हैं।

  • यह विभाग रिज़र्व बैंक की सांविधिक वार्षिक रिपोर्ट को प्रकाशित करता है। रिज़र्व बैंक का इतिहास भी इसी विभाग द्वारा प्रकाशित किया जाता है। रिज़र्व बैंक के अन्य प्रकाशनों को भी इसी विभाग द्वारा प्रकाशित किया जाता है जिसमें स्टेट फाइनेंस : राज्य सरकारों के बजट का अध्ययन, आरबीआई मासिक बुलेटिन और साप्ताहिक सांख्यिकी पूरक शामिल हैं।

  • विभाग अपनी अनुसंधान पीठों, फ़ेलोशिप और अनुसंधान परियोजना एवं अध्ययन के माध्यम से देश में अनुसंधान का माहौल तैयार करने में सहयोग एवं बढ़ावा देता है।

• पत्राचार पता

प्रधान परामर्शदाता
आर्थिक एवं नीति अनुसंधान विभाग
भारतीय रिज़र्व बैंक
7वीं मंज़िल, केंद्रीय कार्यालय भवन,
शहीद भगत सिंह मार्ग,
मुंबई - 400 001.

कृपया ई-मेल के साथ निर्धारित आवेदन फॉर्म भेजने के लिए यहां क्लिक करें

सांख्यिकी और सूचना प्रबंध विभाग (डीएसआईएम)

  • बैंकिंग, कॉर्पोरेट और बाहरी क्षेत्रों से संबंधित आंकडों का संकलन, संसाधन और विश्लेषण।

  • रिज़र्व बैंक के कार्य-क्षेत्र के लिए नियमित रूप से नियोजन, डिज़ाइनिंग और त्वरित नमूना सर्वेक्षण आयोजित करना।

  • रिज़र्व बैंक के आंकडा वेयरहाउस को व्यवस्थित रखना तथा आंकड़ा/सूचना का प्रचार-प्रसार करना।

  • महत्वपूर्ण समष्टि अर्थ-व्यवस्था सूचकांक का प्रतिरूपण तथा पूर्वानुमान करना।

  • परिवर्तियों के मापन और आकलन के लिए और समितियों, कार्यरत समूह इत्यादि के भागीदारी के माध्यम से अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों के आंकड़ाबेस के सुधार के लिए कार्यप्रणाली विकसित करना।

  • विशिष्ट क्षेत्रों में सांख्यिकी विश्लेषण करने वाले रिज़र्व बैंक के अन्य विभागों को तकनीकी सहयोग उपलब्ध कराना और रिज़र्व बैंक के लाभ वाले क्षेत्रों का अध्ययन करना।

  • आंकड़ों की प्राप्ति, संसाधन, सृजन, भंडारण और पुनर्प्राप्ति के लिए एक प्रौद्योगिकी-समर्थित केंद्रीयकृत सूचना प्रबंधन का निर्माण करना और आंकड़ा वेयरहाउसिंग दृष्टिकोण के आधार पर इसका प्रचार-प्रसार सिस्टम तैयार करना। यह सिस्टम निर्णयकर्ताओं, विश्लेषकों और अनुसंधानकर्ताओं को स्वच्छ और सतत ऐतिहासिक और वर्तमान आंकड़ों तक ऑनलाइन और वास्तविक समय में एक केंद्रीय आधान तक पहुंच प्रदान करता है।

  • एक्सबीआरएल के अंतर्गत वित्तीय आंकड़ा की रिपोर्टिंग का मानकीकरण, जो आंकड़ा वेयरहाउस के साथ एकीकृत है और उक्त अवधि में आंकड़ों को ग्रहण करने और मान्यता प्रदान करने वाला एकमात्र प्लेटफॉर्म के रूप में उल्लिखित है।

  • आंकड़ा गुणवत्ता के रख-रखाव के लिए सांख्यिकी प्रणाली का विकास करना।

  • रिज़र्व बैंक के आंकड़ा के प्रकाशन को सीधे आंकड़ा वेयरहाउस से प्रकाशित करना।

  • समष्टि अर्थशास्त्र परिवर्तनों तथा मौद्रिक नीति निर्माण की अपेक्षाओं के विषय में दूरंदेशी सर्वेक्षण करना । महत्वपूर्ण संसूचकों जैसे कि हाउसिंग, नव स्नातकों के लिए रोजगार सृजन इत्यादि के विषय में मौजूद आंकड़ों के अंतर को पूरा करने के लिए अन्य आवधिक सर्वेक्षण करना।

  • अर्थव्यवस्था के निजी कारपोरेट क्षेत्र के वित्त से संबन्धित अध्ययन के कवरेज में सुधार करना।

  • समष्टिगत अर्थव्यवस्था चर वस्तुओं और प्रायोगिक कार्य से संबंधित अनुमान का विकास करना जिसमें अनुमान और नीति सिमुलेशन के लिए तिमाही समष्टि-अर्थव्यवस्था मॉडल विकसित करना भी शामिल है।

  • विभिन्न सांख्यिकी, इकोनोमेट्रिक और प्रचालन अनुसंधान तकनीक जो कि रिज़र्व बैंक से संबन्धित है का प्रयोग करते हुए विश्लेषणात्मक अध्ययन करता है।

• पत्राचार पता :

प्रभारी अधिकारी
सांख्यिकी और सूचना प्रबंध विभाग
भारतीय रिज़र्व बैंक
C-8/9, बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स
बांद्रा,
मुंबई - 400 051.

कृपया ई-मेल के साथ निर्धारित आवेदन फॉर्म भेजने के लिए यहां क्लिक करें

कार्यनीति अनुसंधान इकाई (एसआरयू)

इकाई 4 महत्वपूर्ण वस्तुओं का उत्पाद करता है। सर्वप्रथम, सीमित समयसीमा के अंदर उच्च गुणवत्ता के नीति संबंधी नोट तैयार करता है जो सभी वर्टिकल के उच्च प्रबंधन तंत्र के प्रश्नों का उत्तर प्रदान करते हैं। दूसरे यह उच्च प्रबंधन तंत्र के लिए उच्च गुणवत्ता के नीति दस्तावेज तैयार करता है। तीसरा, यह प्रकाशनीय गुणवत्ता के अनुसंधान पेपर प्रकाशित करता है। चौथा, निगरानी पक्ष पर यह इकाई मासिक आर्थिक निगरानी संबंधी प्रकाशन करता है जोकि महत्वपूर्ण समष्टि अर्थशास्त्र एवं वित्तीय क्षेत्र गतिविधियों की समीक्षा करता है और समकालीन प्रासंगिकता की विशेष अवधारणा पर आधारित अनुसंधान को भी शामिल करता है ।

• पत्राचार पता :

विशेषज्ञ परामर्शदाता
कार्यनीति अनुसंधान इकाई
भारतीय रिज़र्व बैंक
8वी मंजिल, केंद्रीय कार्यालय भवन
शहीद भगत सिंह मार्ग मुंबई - 400 001.

कृपया ई-मेल के साथ निर्धारित आवेदन फॉर्म भेजने के लिए यहां क्लिक करें

वित्तीय स्थिरता इकाई (एफएसयू)

  • भारतीय वित्तीय प्रणाली के लिए वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट (एफएसआर) लाने के लिए एफएसयू जिम्मेदार है। इसके अलावा और एफएसआर से संबंधित काम के लिए अनुशासनिक रूप में यह लगातार वित्तीय प्रणाली में विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा करता है और संभावित कमजोरियों को चुनने और व्यवस्थित जोखिमों के ट्रिगर्स के लिए लगातार डेटा विश्लेषण में लगा हुआ है। एफएसयू वित्तीय स्थिरता और विकास परिषद (एफएसडीसी) की उप समिति के लिए सचिवालय के रूप में भी कार्य करता है।

• पत्राचार पता:

मुख्य महाप्रबंधक
वित्तीय स्थिरता इकाई
भारतीय रिजर्व बैंक, तीसरी मंजिल,
अमर बिल्डिंग, सर पीएम रोड, फोर्ट,
मुंबई - 400 001.

कृपया ई-मेल के साथ निर्धारित आवेदन फॉर्म भेजने के लिए यहां क्लिक करें

अंतर्राष्ट्रीय विभाग

  • अंतर्राष्ट्रीय विभाग रिज़र्व बैंक में अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय कूटनीति का नोडल बिंदु है। यह अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ), विश्व बैंक, बैंक ऑफ इंटरनेशनल सेटलमेंट (बीआईएस), वित्तीय स्थिरता बोर्ड (एफएसबी) और आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (ओईसीडी) के साथ-साथ बहुपक्षीय निकाय जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के साथ विचारों का आदान-प्रदान करता है यथा जी 20,ब्रिक्स और सार्क। विभाग में काम की दो व्यापक धाराएं: (i) वैश्विक समष्टि आर्थिक और वित्तीय बाजार गतिविधियां, (ii) वैश्विक वित्तीय नियामक सुधार से संबंधित हैं। विभाग इन व्यापक क्षेत्रों में सक्रिय रूप से नीतिगत मुद्दों से जुड़ा है जो अंतर्राष्ट्रीय मंच में चर्चाओं और बातचीत के अंतर्गत आते हैं।

  • वैश्विक नीति एजेंडा को चलाने और उपरोक्त नीतिगत मुद्दों पर भारत की स्थिति का समर्थन करने के लिए, विभाग स्वयं या अन्य प्रासंगिक विभागों के सहयोग से नीति सहायक अनुसंधान करता है। मुद्दों की गंभीरता से जांच करके और एजेंडा पर गुणवत्ता अनुसंधान आधारित विश्लेषणात्मक इनपुट प्रदान करके, विभाग राष्ट्रीय और वैश्विक हितों को ध्यान में रखते हुए अंतर्राष्ट्रीय मंच में तर्कसंगत रुख व्यक्त करने में मदद करता है।

• पत्राचार पता:

परामर्शदाता
अंतर्राष्ट्रीय विभाग,
भारतीय रिजर्व बैंक,
8 वीं मंजिल, केंद्रीय कार्यालय भवन,
शहीद भगत सिंह मार्ग,
मुंबई -400 001.

कृपया ई-मेल के साथ निर्धारित आवेदन फॉर्म भेजने के लिए यहां क्लिक करें

Server 214
शीर्ष